कब्ज क्या है? कब्ज दूर करने के आसान और कारगर उपाय

कब्ज कोई बीमारी नहीं है, यह किसी अन्य चिकित्सा समस्या का लक्षण हो सकता है। कब्ज कम या लंबे समय तक रह सकता है। इस प्रकार अगर एक सप्ताह में तीन से कम मल त्याग मुश्किल या दर्दनाक हो उसे कब्ज की शिकायत के रुप में देखा जा सकता है। हालांकि लोगों के पास अलग-अलग मल त्याग पैटर्न हो सकते हैं।

खराब खान-पान से अक्सर कब्ज की समस्या हो जाती है। मल को नरम रखने में मदद करने के लिए आहार फाइबर और पर्याप्त पानी का सेवन आवश्यक है। अगर आप फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ का सेवन करते है जो आमतौर पर जो पौधों से बनाए जाते हैं। चूकि फाइबर घुलनशील और अघुलनशील रूपों में आता है। घुलनशील फाइबर पानी में घुल सकता है और पाचन तंत्र से गुजरते समय एक नरम, जेल जैसी सामग्री बनाता है।

वही अघुलनशील फाइबर अपनी अधिकांश संरचना को बरकरार रखता है क्योंकि यह पाचन तंत्र से गुजरता है। फाइबर के दोनों रूप मल के साथ जुड़ते हैं। इसका वजन और आकार बढ़ाते हैं और इसे नरम भी करते हैं। इससे मलाशय से गुजरना आसान हो जाता है। संयुक्त राज्य अमेरिका में सभी उम्र और आबादी के बीच कब्ज आम है। 100 में से लगभग 16 वयस्कों में कब्ज के लक्षण होते हैं। 60 वर्ष और उससे अधिक आयु के 100 वयस्कों में से लगभग 33 में कब्ज के लक्षण होते हैं।

कब्ज क्या है? (Kabj kya hai?)

Kabj kya hai

कब्ज को चिकित्सकीय रूप से प्रति सप्ताह तीन से कम मल के रूप में परिभाषित किया गया है। अगर आपको गंभीर कब्ज है तो प्रति सप्ताह एक मल से कम है। कब्ज के कुछ लक्षणों में पेट के निचले हिस्से में बेचैनी, मल त्याग के बाद अपूर्ण निकासी की भावना (यह महसूस करना कि आपको अभी भी “जाना है”), मल त्याग करने के लिए तनाव, कठोर या छोटा मल, मलाशय से रक्तस्राव, और या कठोर मल, शारीरिक कष्ट और मल त्याग करने के जुनून के कारण गुदा विदर आदि में दर्द का अभास होता है।

इसके अलावा कब्ज दस्त के विपरीत है, और आमतौर पर चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम(IBS), डायवर्टीकुलोसिस और दवाओं के कारण होता है। विरोधाभासी रूप से कब्ज जुलाब के अति प्रयोग के कारण भी हो सकता है। कोलन कैंसर भी कोलन को संकीर्ण कर सकता है, और इस तरह कब्ज पैदा कर सकता है। एक उच्च फाइबर आहार अक्सर कब्ज को दूर कर सकता है। यदि आहार सहायक नहीं है, तो आपको चिकित्सा मूल्यांकन की आवश्यकता है। इस प्रकार अगर आपको परेशानी ज्यादा हो तो आप डाक्टर से सलाह लेकर दवा का इस्तेमाल कर सकते है।

कब्ज के कुछ सामान्य कारण (Kabj k kuch samanay karan)

Kabj k kuch samanay karan
  1. आहार में फाइबर की कमी का होना
  2. दिनचर्या में बदलाव का होना
  3. आवश्यकता पड़ने पर बाथरूम का उपयोग न करना
  4. पर्याप्त पानी नहीं पीना
  5. कोलोरेक्टल की समस्याएं

कब्ज के लक्षण (Kabj ke lakshan)

Kabj ke lakshan
  1. एक सप्ताह में तीन से कम मल त्याग का होना
  2. आपका मल सूखा, सख्त और ढेलेदार होने पर
  3. मल का मुश्किल या दर्दनाक होना
  4. पेट में दर्द या ऐंठन का होना
  5. पेट का फूला हुआ और मिचली महसूस करना
  6. आंतों का पूरी तरह से खाली महसूस नही होना

कब्ज दूर करने के बेहद आसान और कारगर उपाय (Kabj ka ilaj)

  1. पानी का सेवन करना
  2. व्यायाम करना
  3. पेट की मालिश
  4. रेंड़ी का तेल प्रयोग करें
  5. कॉफ़ी का सेवन
  6. चाय का सेवन करना
  7. नींबू का रस
  8. एलोविरा का इस्तेमाल
  9. नारियल पानी का इस्तेमाल
  10. विटामिन

आहार में बदलाव पानी पीना, व्यायाम और सप्लीमेंट लेना कब्ज के लक्षणों को दूर करने के प्राकृतिक तरीकों में से हैं। कब्ज में योगदान करने वाले कारकों की पहचान करने से आपको यह तय करने में मदद मिल सकती है कि कौन से उपाय सबसे अच्छे हैं। समस्या के इलाज के लिए निम्नलिखित उपायों का संयोजन आवश्यक हो सकता है।

1. पानी का सेवन करना

drinking water

पानी रासायनिक तत्वों हाइड्रोजन और ऑक्सीजन से बना एक पदार्थ और गैसीय तरल और ठोस अवस्था में मौजूद है। यह सबसे भरपूर और आवश्यक यौगिकों में से एक है। कमरे के तापमान पर एक बेस्वाद और गंधहीन तरल इसमें कई अन्य पदार्थों को भंग करने की महत्वपूर्ण क्षमता होती है।

इसके साथ ही अगर आप पर्याप्त पानी का सेवन करते है तो यह आपका कब्ज से राहत पाने का पहला कदम हो सकता है। जब कोई व्यक्ति निर्जलित हो जाता है, तो शरीर कोलन सहित पूरे शरीर से पानी खींचना शुरू कर देता है। यदि दिन में छह से आठ गिलास पानी का आप सेवन करते है तो यह हाइड्रेटेड मल को नरम रख सकता है। जिससे मल त्याग अधिक बार-बार और आरामदायक हो जाता है।

2. व्यायाम करना

exercise

व्यायाम शारीरिक गतिविधि है जो शरीर को कंडीशनिंग करने के उद्देश्य से नियोजित, संरचित और दोहरावदार होती है। इसके साथ ही व्यायाम में कार्डियोवैस्कुल कंडीशनिंग, ताकत और प्रतिरोध प्रशिक्षण, और लचीलापन शामिल है। अगर आप नियमित रुप से व्यायाम करते है तो यह स्वस्थ मल त्याग को बनाए रखने में मदद कर सकता है। इसके साथ-साथ खेल गतिविधियों में भाग लेना, नृत्य करना, या यहां तक ​​कि दिन में एक या दो बार 10 से 15 मिनट तक पैदल चलना आपको नियमित रखने में मदद कर सकता है।

3. पेट की मालिश

belly massage

कब्ज के दौरान पेट की मालिश करना एक प्रकार का घरेलू उपचार हो सकता है। अगर आप अपनी पीठ के बल लेटकर पेट को लगभग 10 मिनट के लिए दक्षिणावर्त गति में दबाते है तो इससे आपको लाभ मिल सकता है। इसके साथ-साथ आप इस मसाज को दिन में दो बार कर के कर सकते हैं। दक्षिणावर्त गति मलाशय में मल को मलाशय की ओर धकेलने में मदद करती है। मालिश से पहले अगर आप गर्म पानी या चाय का सेवन करते है तो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सिस्टम में सुधार हो सकता है।

4. रेंड़ी का तेल प्रयोग करें

use castor oil

यह एक वनस्पति तेल है और इसका पौधा मूल रूप से अफ्रीका और भारत में पाया जाता है। अरंडी का वैज्ञानिक नाम रिसीनस कम्युनिस (Ricinus communis) है। भारत में अरंडी के तेल को कई नामों से जाना जाता है- तेलुगु में अमुदामु, मराठी में इरांदेला टेला, तमिल में अमानकु एनी, मलयालम में अवानाककेना और बंगाली में रिरिरा टेला। उपयोग के हिसाब से अरंडी तेल एक बहुत पुराना औषधीय तेल है, जो कई समस्याओं के इलाज के रूप में उपयोग होता है।

इस तेल को बनाने के लिए इसके बीजों का उपयोग किया जाता है। इसके बीजो को दबाकर तेल निकाला जाता है। कैस्टर बीन से प्राप्त एक प्राकृतिक रेचक अरंडी का तेल मल त्याग को प्रोत्साहित करने के लिए मौखिक रूप से लिया जा सकता है। यह प्राचीन तेल न केवल आंतों को चिकनाई देता है। बल्कि यह आंतों को सिकुड़ने का कारण भी बनता है।

5. कॉफ़ी का सेवन

drinking coffee

कॉफी न केवल सेहत के लिए अच्छी होती है बल्कि इसके स्‍वाद से तन और मन भी तरोताजा महसूस करता है। कॉफी का स्‍वाद हल्‍का-सा कड़वा होता है और ये थोड़ी-सी अम्‍लीय (गैस पैदा करने वाली) भी होती है। नाश्‍ते में भी कुछ लोग कॉफी का सेवन करते हैं। दुनियाभर में रोज लगभग 40 करोड़ कप कॉफी पी जाती है। कैफीनयुक्त कॉफी का अगर आप सेवन करते है तो मल त्याग को उत्तेजित किया जा सकता है।

इसके अलावा कैफीन आंतों में मांसपेशियों को अनुबंधित करने का कारण भी बन सकता है। यह उत्तेजना मल को मलाशय की ओर ले जा सकती है। हालांकि कैफीनयुक्त कॉफी आंतों को हिलाने में मदद कर सकती है, लेकिन यह निर्जलीकरण भी कर सकती है। कैफीनयुक्त पेय पदार्थ पीते समय खूब पानी पीना सुनिश्चित करें, ताकि स्थिति और खराब न हो।

6. चाय का सेवन करना

drinking tea

देश ही नहीं बल्कि दुनियाभर में चाय पीने के शौकीनों की कोई कमी नहीं है। लेकिन कई लोग ऐसे भी हैं, जो चाय को स्वास्थ्य के लिए बुरा मानकर इससे परहेज करते हैं। विश्व में चाय उत्पादन में भारत का पहला स्थान है। भारत में चाय पहली बार सन् 1834 में अंग्रेज लेकर आए। हालांकि जंगली अवस्था में यह असम में पहले से ही पैदा होती थी। सन् 1815 में अंग्रेज यात्रियों का ध्यान असम में उगने वाली चाय की झाड़ियों पर गया। असम के स्थानीय कबाइली लोग इसका पेय बनाकर पहले से ही पीते थे। गर्म तरल पदार्थ पाचन और जठरांत्र प्रणाली के लिए सुखदायक हो सकते हैं। कुछ चाय जैसे अदरक और पुदीना पेट खराब करने में मदद करते हैं। नीचे चाय की एक सूची दी गई है जो कब्ज का अनुभव होने पर मददगार साबित हो सकती है।

अदरक: यह गर्म करने वाला मसाला गर्मी पैदा करता है और पाचन क्रिया को तेज करता है।
पुदीना: मेन्थॉल एक परेशान पेट को शांत कर सकता है और आंतों के माध्यम से मल को स्थानांतरित कर सकता है।
कैमोमाइल: पाचन की मांसपेशियों को आराम देता है, जो तनाव और तनाव के दौरान आंतों को अपने आप हिलने से रोक सकता है।
लीकोरिस रूट: इसके विरोधी भड़काऊ गुण भोजन के बाद पाचन तंत्र को आसान बना सकते हैं।
सिंहपर्णी जड़: लीवर को उत्तेजित करके हल्के कब्ज को कम करता है।
काली या हरी चाय: कैफीन युक्त चाय कॉफी की तरह ही आंतों को उत्तेजित करने का काम करती है।

7. नींबू का रस

Lemon juice

नींबू का रस शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद कर सकता है। एक प्राकृतिक पाचन सहायता के रूप में, आंत्र उत्तेजना को बढ़ाने के लिए पीने के पानी या चाय में नींबू का रस मिलाया जा सकता है। ताजा निचोड़ा हुआ नींबू का रस सबसे अच्छा है। अगर आप इसका सेवन करते है तो आपको लाभ मिलेगा।

8. एलोविरा का इस्तेमाल

uses of aloe vera

अक्सर इसे कट और जलन को शांत करने के लिए बाहरी रूप से उपयोग किया जाता है। आप पाचन तंत्र को शांत करने के लिए एलोवेरा को मौखिक रूप से भी ले सकते हैं। कब्ज और आईबीएस को कम करने में मदद के लिए एलोवेरा जूस को सादा पिएं या इसे स्मूदी या अन्य पेय पदार्थों में मिलाएं। लाभ अवश्य मिलेगा।

9. नारियल पानी का इस्तेमाल

use coconut water

नारियल पानी पीने से डिटॉक्सिफाइंग और हाइड्रेटिंग हो सकता है। यह गुर्दे की क्रिया को बढ़ाता है और पाचन तंत्र को उत्तेजित करता है। नारियल पानी में प्राकृतिक रूप से मैग्नीशियम भी पाया जाता है, जो आंतों की दीवार की मांसपेशियों को मल को शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है।

10. विटामिन

vitamin

विटामिन, कई कार्बनिक पदार्थों में से कोई भी जो सामान्य स्वास्थ्य और पशु जीवन के उच्च रूपों में वृद्धि के लिए कम मात्रा में आवश्यक है। विटामिन अन्य जैविक रूप से महत्वपूर्ण यौगिकों जैसे प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और लिपिड से कई मायनों में अलग हैं। दूसरी ओर विटामिन आमतौर पर शारीरिक जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त मात्रा में संश्लेषित नहीं किया जा सकता है और इसलिए इसे आहार से या किसी सिंथेटिक स्रोत से प्राप्त किया जाना चाहिए।

इसी कारण विटामिन को आवश्यक पोषक तत्व कहा जाता है। विटामिन आपके पाचन तंत्र को संतुलित रखने में मददगार हो सकते हैं। विटामिनों वाले खाद्य पदार्थ खाने से आपके मल त्याग की संख्या बढ़ सकती है। पूरक रूप में विटामिन यह सुनिश्चित करने का एक और तरीका है कि आपको अपनी दैनिक सिफारिश की उचित मात्रा मिल रही है। अगर आप इसका सेवन करते है तो आपको इसका लाभ अवश्य मिलेगा।

इस ब्लॉग के माध्यम से हमने आपको कब्ज में होने वाली समस्या और उसके निदान के बारे में बताया है। अगर आप इस ब्लॉग को पढ़कर इसके घरेलू उपयोग करके आप भी कब्ज की समस्या से निजात पा सकते है। उम्मीद है यह लेख आपके लिए फायदेमंद साबित होगा।