आपने अश्वगंधा के बारे में सुना तो होगी ही, आइये आज जानते है इसके बारे में विस्तृत में|अश्वगंधा एशिया और यूरोप में पाई जाने वाली यह एक सदाबहार झाड़ी है। विशेष रुप से यह तनाव के लिए प्रयोग में लाया जाता है। यह एक ऐसा रासायन है जो दिमाग को शांत रखने के साथ-साथ सूजन और रक्तचाप को कम करने में भी सहायक होता है। चूंकि अश्वगंधा को मूल रूप से एक एडाप्टोजेन के रूप में उपयोग किया जाता है, इसलिए इसका उपयोग तनाव से संबंधित कई स्थितियों के लिए किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि एडाप्टोजेन्स शरीर को शारीरिक और मानसिक तनाव का विरोध करने में मदद करते हैं।

कुछ स्थितियों में इसका उपयोग अनिद्रा, उम्र बढ़ने, चिंता और आदि को कम करने के लिए किया जाता है। यह भी बात याद रखने योग्य है कि इनमें से अधिकांश उपयोगों का समर्थन करने के लिए कोई अच्छा वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। चूकिं इसका नाम अश्‍व और गंध से लिया गया है। अश्‍वगंधा की जड़ और पत्तों से घोड़े के मूत्र एवं पसीने जैसी दुर्गंध आने के कारण ही इसका नाम अश्‍वगंधा रखा गया है। आयुर्वेदिक शोधकर्ताओं का भी मानना है कि अश्‍वगंधा के सेवन से अश्‍व (घोड़े) जैसी ताकत और यौन शक्‍ति मिलती है। आइएँ जानते है इसके फायदे नुकसान और इस्तेमाल की विधि के बारे में।

अश्वगंधा क्या है? (Benefits of Ashwagandha in Hindi)

Benefits of Ashwagandha in Hindi

अगर आप तनाव से ग्रसित है,परेशान है तो अब आपको घबरानें की बिल्कुल जरुरत नही है। यह मै ही नही आपके आस-पास के लोग भी इसके चमत्कारी फायदे के बारे में जरुर बताएं होगे। तनाव वाले व्यक्तियों के लिए अश्वगंधा रामबाण है। आज के आधुनिक जीवन तनाव से भरा हुआ है। शायद वही तनाव शारीरिक और मानसिक बीमारी में योगदान देता है और बेहतर महसूस करने के तरीकों की तलाश करता है।

एक स्वस्थ जीवन शैली जिसमें नियमित व्यायाम, एक अच्छा आहार, नियमित दिमागीपन अभ्यास और पर्याप्त नींद शामिल है। डॉ. लिन के अनुसार अश्वगंधा आमतौर पर सुरक्षित होता है। "ज्यादातर लोग इस पूरक को ले सकते हैं। हालांकि पहले अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के साथ इस पर चर्चा करना हमेशा सर्वोत्तम होता है। अश्वगंधा आमतौर पर अच्छी तरह से सहन किया जाता है। हालांकि, सबसे आम दुष्प्रभाव दस्त, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल परेशान, उल्टी और मतली होने की संभावना भी हो सकती है।

अश्वगंधा का इस्तेमाल कैसे करें (How to use Ashwagandha)

How to use Ashwagandha

इसको इस्तेमाल करने तरीका बहुत ही आसान है। इसे पानी ,शहद या फिर घी में मिलाकर इसका सेवन किया जा सकता है। इसके अलावा अश्वगंधा चाय और अश्वगंधा कैप्सूल का भी सेवन किया जा सकता है। इसको खाना खाने के बाद या सोने के पहले लिया जा सकता है जो फायदेमंद होता है। कुछ लोग तो इस्तेमाल खाली पेट भी करते है। जरुरी नही की खाली पेट सबके लिए सही हो। इसलिए इसके सेवन करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि किसी आयुर्वेदिक डॉक्टर या नेचुरापैथी एक्सपर्ट से सलाह लेकर इसका सेवन किया जाए।

अश्वगंधा के 10 बड़े फायदें (Aswagandha benefits)

  1. आसानी से उपलब्ध है
  2. कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स को कम करता है
  3. सूजन को कम करता है
  4. मांसपेशियों और ताकत को बढ़ाता है
  5. पुरुषों में प्रजनन क्षमता बढ़ाता है
  6. अवसाद के लक्षणों को कम करता है
  7. तनाव और चिंता को कम करने में लाभकारी
  8. मोतियाबिंद से लड़ने में सहायक
  9. बालों के लिए फायदेंमंद
  10. त्वचा के लिए फायदेमंद

1. आसानी से उपलब्ध है

आसानी से उपलब्ध है

ऐसा माना जाता है कि अश्वगंधा ज्यादातर लोगों के लिए पूरक है। लेकिन कुछ लोगों को इसका सेवन नही करना चाहिए जैसे- गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाएं शामिल हैं। ऑटोइम्यून बीमारियों वाले लोगों को भी अश्वगंधा से बचना चाहिए जब तक कि किसी स्वास्थ्य सेवा प्रदाता द्वारा अधिकृत न किया जाए। इसके अलावा ल्यूपस, हाशिमोटो के थायरॉयडिटिस और टाइप 1 मधुमेह जैसी स्थितियों वाले लोग भी शामिल हैं। इसके अतिरिक्त, अश्वगंधा लेते समय थायराइड रोग की दवा लेने वालों को सावधान रहना चाहिए, क्योंकि यह कुछ लोगों में थायराइड हार्मोन के स्तर को बढ़ा सकता है। यह रक्त शर्करा और रक्तचाप के स्तर को भी कम कर सकता है। इसलिए यदि आप इसे लेते हैं तो दवा की खुराक को समायोजित करने की आवश्यकता हो सकती है। अश्वगंधा की अनुशंसित खुराक पूरक के प्रकार पर निर्भर करती है। कच्चे अश्वगंधा की जड़ या पत्ती के पाउडर की तुलना में अर्क अधिक प्रभावी होते हैं। 

2. कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स को कम करता है

Lowers cholesterol and triglycerides

यह आपके ह्रदय के स्वास्थ्य को और भी बेहतर बनता है। जानवरों के अध्यन से यह पाया गया है कि यह कोलेस्ट्रॉल को काफी कम करता है। अगर आप लम्बे समय से तनावग्रस्त है, तो आप अश्वगंधा लीजिये| यह कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसरिद कम करने में काफी सहायक है।

3. सूजन को कम करता है

reduces inflammation

सूजन आकार में वृद्धि या शरीर के किसी क्षेत्र के आकार में परिवर्तन है। सूजन शरीर के तरल पदार्थ के संग्रह ,ऊतक वृद्धि या असामान्य गति या ऊतक की स्थिति के कारण हो सकती है। कई स्थितियों में सूजन हो सकती है। कीड़े के काटने, बीमारी या चोट लगने में अक्सर बाहरी सूजन होता है। इसके अलावा आंतरिक सीजन अक्सर किसी दवा का साईड इफेक्ट या गंभीर चोट का परिणाम होता है। यदि आप तेजी से अस्पष्ट सूजन अनुभव करते है,तो आपको तत्काल चिकित्सा सहायता लेनी चाहिए। खासकर यदि आप भी अस्पष्ट वजन बढ़ने और दर्द का अनुभव करते है। एक अध्ययन से यह पता चला है कि अश्वगंधा सूजन को कम करने में मददगार साबित हो सकता है। मनुष्यों में तो यहां तक पाया गया है कि प्राकृतिक हत्यारें कोशिकाओं की गतिविधियों को बढाता है। जो प्रतिरक्षा कोशिकाएं संक्रमण से लड़ती है। इसप्रकार अगर आप इसका इस्तेमाल करते है तो आपको लाभ मिलेगा।

4. मांसपेशियों और ताकत को बढ़ाता है

Increases muscle mass and strength

मांसपेशियों और ताकत को बढ़ाता है इतना ही नहीं एक शोध से यह पता चला है की अश्वगंधा शरीर की संरचना में सुधार कर सकता है और ताकत को भी बढ़ा सकता है अश्वगंधा के लिए एक सुरक्षित और प्रभावी खुराक निर्धारित करने के लिए एक अध्ययन में, स्वस्थ पुरुषों ने प्रतिदिन 750-1250 मिलीग्राम चूर्ण अश्वगंधा जड़ को 30 दिन के सेवन के बाद मांसपेशियों की शक्ति प्राप्त की है। यह प्लेसीबो समूह की तुलना में शरीर में वसा प्रतिशत में उनकी कमी को दो गुना से भी अधिक कर देता है। इसके साथ-साथ तनाव और चिंता को कम करने में भी मदद कर सकता है अश्वगंधा शायद तनाव को कम करने की क्षमता के लिए जाना जाता है। इस प्रकार आप इसके उपयोग से लाभ पा सकते हैं।

5. पुरुषों में प्रजनन क्षमता बढ़ाता है

Increases fertility in men

ज्यादातर पुरुषों आज के समय में एक बच्चे के लिए कोशिश कर रहा है। विशेष रुप से जब आपका साथी गर्भधारण करने की उसकी तलाश कर अधिक सेक्स शुरू करने की संभावना रखता है। बच्चे का यौन संबंध सहजता और उत्तेजना के एक नए तत्व को आयाम देता है। यह आपके शरीर में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन को बढ़ा सकता है। इतना ही नहीं इसके साथ-साथ यह पुरुषों में प्रजनन क्षमता को भी बढ़ाता है। अगर आप अश्वगंधा की खुराक को नियमित रूप से ले रहे हैं तो यह आपके टेस्टोस्टेरोन के स्तर के साथ-साथ प्रजनन स्वास्थ्य पर बहुत तेजी से प्रभाव डालती है। 75 बांझ पुरुषों में एक शोध में पाया गया कि अश्वगंधा के साथ इलाज करने वाले समूह ने शुक्राणुओं की संख्या और गतिशीलता में वृद्धि देखी गई। शोधकर्ताओं ने यह भी बताया कि जिस समूह ने जड़ी बूटी ली थी, उनके रक्त में एंटीऑक्सीडेंट का स्तर बढ़ गया था। अश्वगंधा टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने में मदद करता है और पुरुषों में शुक्राणु की गुणवत्ता और प्रजनन क्षमता को काफी बढ़ाता है।

6. अवसाद के लक्षणों को कम करता है

reduces symptoms of depression

हालांकि इसके बारे में पूरी तरह से कोई स्पष्टता नहीं है। कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि अश्वगंधा अवसाद को कम करने में मदद कर सकता है तनावग्रस्त वयस्कों में एक नियंत्रित 60 दिन के अध्ययन में यह पता चला कि जिन्होंने प्रतिदिन 600 मिलीग्राम उच्च सांद्रता वाले अश्वगंधा का अर्क लिया, उन्होंने गंभीर अवसाद में 79 प्रतिशत की कमी पाई गई। जबकि प्लेसीबो समूह ने वही इसके बारे में 10 प्रतिशत की वृद्धि की बात की है। हालांकि इस रिसर्च में भाग लेने वालों में से केवल एक का अवसाद का इतिहास था। इस कारण से परिणामों की प्रासंगिकता स्पष्टता नहीं है।

7. तनाव और चिंता को कम करने में लाभकारी

Beneficial in reducing stress and anxiety

अगर आप यह सोचते होगे कि अश्वगंधा का तनाव से क्या लेना देना है,तो आइएं हम आपको बताते है। दरअसल अश्वगंधा मानसिक तनाव जैसी भयानक समस्याओं को ठीक करने में रामबाण साबित होता है। वही एक शोध के अनुसार तनाव अश्वगंधा के उपयोग से कम किया जा सकता है। इसका मतलब अगर साधे शब्दों में कहें तो यह आपके मानसिक संतुलन को ठीक करने में लाभकारी है। साथ ही इससे नींद भी अच्छी आती है। इसके अलावा विभिन्न प्रकार के समस्याओं से भी आपको छुटकारा दिलाता है।

8. मोतियाबिंद से लड़ने में सहायक

Helpful in fighting cataract

आंख मनुष्य की शरीर का बहुत ही महत्वपूर्ण अंग है। जो प्रकाश के प्रति संवेदनशील है। क्योकिं आंखों के सहारें ही हम चीजों को देख और समझ पाते है। इतना ही नही आंख लगभग 10 मिलियन रंगों के बीच अंतर कर सकती है। अगर आप रोजाना दूध के साथ अश्वगंधा का इस्तेमाल करते है तो यह आपकी आंखों की रोशनी को बढ़ानें में भी मदद करता है।

9. बालों के लिए फायदेंमंद

beneficial for hair

जैसा की आपको पहले से ही ज्ञात है कि अश्वगंधा का उपयोग आयुर्वेद में बालों से संबंधित समस्या को दूर करने के लिए किया जाता है।इसके फायदें बालों के लिए इतना है कि यह बालों को जड़ो तक रक्त संचार को सुधार देता है। जिसके बदौलत आपके बाल तेजी से बढ़ने लगते है और साथ ही मजबूत भी होते है।

10. त्वचा के लिए फायदेमंद

beneficial for skin

अश्वगंधा आपकी सुंदरता को बढ़ाने और सभी स्किन समस्याओं से छुटकारा दिलाने में मदद करता है। यह आपकी त्वचा को हाइड्रेट रखने और स्किन को टोन करने में मदद करता है। इसके अलावा आपकी त्वचा की उम्र बढ़ने को धीमा करने और फाइन लाइन से छुटकारा दिलाने में मदद करता है। अश्वगंधा में मौजूद यह हाइलूरोनान,इलास्टिन और कोलेजन रखने में मदद करता है। यह इन सभी यौगिकों के उत्पादन में सहायता करने के लिए भी जाना जाता है।आप चाहे तो अश्वगंधा को टी के रुप में भी सेवन कर सकते है। यह एक इमयुनिटी बूस्टर चाय है।

इन बातों का ध्यान रखें (Take note of these things)

Take note of these things

  1. बीपी से ग्रसित लोग सेवन करने से बचें
  2. पेट में दर्द या डायरिया की समस्या हो सकती है
  3. ज्यादा सेवन सेहत के लिए हानिकारक है
  4. उल्टी, जी मिचलाने जैसी समस्या का होना
  5. डायबिटीज से ग्रसित व्यक्ति के लिए हानिकारक
  6. बुखार थकावट दर्द जैसी समस्या का होना

 

इस ब्लॉग के माध्यम से आपको अश्वगंधा के फायदे (ashwagandha ke fayde), नुकसान (ashwagandha ke nuksan) और कितना और कैसे इस्तेमाल करना है बताया गया है उम्मीद है यह ब्लॉग आपकी समस्याओं के निवारण में आपकी सहयोग करेगा परंतु अगर आप इसका सेवन करना चाहते हैं तो एक बार आप डॉक्टर से इस बारे में सलाह जरूर लें।

Author name

Aditya Raj

Bio details

As a health and wellness writer, Aditya focuses on providing accurate information about nutritional supplements and their benefits. His fields of interest include football, field hockey, cooking,and mental health.